Operating System क्या है: जानिए इसके प्रकार, कार्य और विशेषताएं

Devdotguide
21 Min Read

what is operating system in hindi
what is operating system in hindi
WhatsApp Group Join Now
Telegram Channel Join Now

What is Operating System in Hindi: ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) एक सॉफ़्टवेयर है जो कंप्यूटर हार्डवेयर को ऑपरेट करने के लिए इस्तमाल किया जाता है। ऑपरेटिंग सिस्टम के कई प्रमुख कार्य हैं, जैसे कि रिसोर्स मैनेजमेंट, टास्क मैनेजमेंट, फ़ाइल सिस्टम मैनेज, और सुरक्षा देता है। Operating System क्या है और विभिन्न प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम हैं, जैसे कि Windows, MacOS, आदि, जो अलग-अलग उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। यह ब्लॉग मै हम ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी, प्रकार, और कार्यों के बारे में बताएगे।

एक ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) एक सॉफ़्टवेयर होता है जो किसी कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस को चलाने है। यह उपयोगकर्ता और कंप्यूटर हार्डवेयर के बीच कंप्यूटर को चलने का माध्यम होता है और इसे अन्य सॉफ़्टवेयर को इनस्टॉल और चलने देता है। एक ऑपरेटिंग सिस्टम उपयोगकर्ता के द्वारा चलाया जाता है, जैसे कि कीबोर्ड और माउस, को समझने और हार्डवेयर परचलाने के लिए भी जिम्मेदार होता है।

यह सिस्टम कंप्यूटर प्रोग्रामों को चलाने और संचालित करने में मददगार होता है, जैसे कि एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर, जो कंप्यूटर उपयोगकर्ताओं के लिए उपयोगी होता है। यह मेमोरी, प्रोसेसर, फ़ाइल्स और डेटा के संग्रह, प्रबंधन, और सुरक्षा को भी संभालता है।

Operating System के प्रमुख उद्देश्य में से एक है कि यह हार्डवेयर के साथ इंटरैक्ट करने और दूसरे सॉफ़्टवेयर को चलाने में मदद करता है, जिससे उपयोगकर्ता को सरलता से कंप्यूटर का उपयोग करने में आसानी हो। इसे कंप्यूटर सिस्टम का माध्यम कहा जा सकता है जो हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर के बीच एक चलाने का सिस्टम है।

एक ऑपरेटिंग सिस्टम के बिना, कंप्यूटर के सभी हार्डवेयर कंपोनेंट्स और सॉफ़्टवेयर अलग-अलग तरीके से काम करेंगे और उपयोगकर्ता को हर काम के लिए स्वयं से इंस्ट्रक्शन देना पड़ेगा। ऑपरेटिंग सिस्टम का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि सभी कंप्यूटर कार्य सही ढंग से और एक तरीके से हों, ताकि उपयोगकर्ता को बिना किसी मुश्किल के कंप्यूटर का चलाने में सुविधा हो।

साथ ही, Operating System कंप्यूटर के सभी चीज़ का उपयोग और प्रबंधन करता है, जैसे कि प्रोसेसर, मेमोरी, संचार उपकरण, स्टोरेज डिवाइस, और अन्य हार्डवेयर। यह तकनीकी विशेषताओं को छिपाकर उपयोगकर्ता के लिए एक सरल इंटरफेस देता है जिससे वे अपने कार्यों पर ध्यान केंद्रित कर सकें।

समय के साथ, ऑपरेटिंग सिस्टम का डिज़ाइन और क्षमताएँ सुधारी गई हैं ताकि यह नए टेक्नोलॉजी और उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं को पूरा कर सके। आजकल, विभिन्न प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम उपलब्ध हैं, जैसे कि Windows, MacOs, Linux, Android, आदि, जो विभिन्न प्रकार के डिवाइसों के लिए डिवेलप किए गए हैं।

Operating System के प्रकार आपको यह समझने में मदद करेगा कि ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार के होते हैं और उनके फर्क क्या हैं। एक कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस को चलाने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम बेहद जरुरी होता है, जो उसकी integration capability को पूरा यक़ीन के साथ-साथ बहुत सारी सेवाओं को मिलाने में मदद करता है। इस लेख में हम इस तकनीकी विषय पर गहराई से जानकारी प्रदान करेंगे, जिससे आपको ऑपरेटिंग सिस्टम के विभिन्न प्रकारों की समझ में मदद मिलेगी और आपकी डिवाइस के लिए सही ऑपरेटिंग सिस्टम का चुनने में आसानी होगी।

1. Windows

विंडोज (Windows) एक प्रमुख Operating System है जिसे Microsoft ने बनाया है। यह एक बहुत ही लोकप्रिय और बढ़िया ऑपरेटिंग सिस्टम है जो कंप्यूटरों अपने लिए और काम के लिए उपयोग होता है। Windows का उपयोग कंप्यूटर काम संबंधी, ऐप्लिकेशन चलाने, फ़ाइलें ऑपरेट करने और इंटरनेट ब्राउज़िंग के लिए किया जाता है। इसका इंटरफ़ेस उपयोगकर्ता को सरलता से इन टेक्निकल कार्यों को करने में मददगार होता है और यह अनेक प्रकार के कंप्यूटिंग उपयोगों के लिए सही है, जैसे कि ऑफिस कार्य, गेमिंग, मल्टीमीडिया, और इंटरनेट सर्फ़िंग।

2. MacOS

Mac OS एक उच्च स्तरीय ऑपरेटिंग सिस्टम है जो Apple Computers के लिए बनाया गया है और इसमें एक अद्वितीय और आसान इंटरफ़ेस होता है। यह उपयोगकर्ताओं को शक्तिशाली क्रिएटिव टूल्स और एक सरल सिस्टम प्रदान करता है जो विशेष रूप से डिज़ाइन और क्रिएटिव कार्यों के लिए उपयुक्त है।

MacOS का इंटरफ़ेस बहुत ही सरल होता है जिससे उपयोगकर्ता को उसकी आवश्यकताओं के अनुसार आसानी से काम करने में मदद मिलती है। इसमें सुंदर ग्राफिक्स, स्मूथ एनिमेशन और एक संगठित डेस्कटॉप मिलता है जो उपयोगकर्ताओं को एक अद्वितीय और प्रोफेशनल अनुभव प्रदान करता है।

3. Linux

लिनक्स (Linux) एक मुफ्त और open source का operating system है जो टेक्निकल लोगो द्वारा पसंद किया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य है स्वतंत्रता और साझेदारी को बढ़ावा देना, जिससे यूजर फ्रील मै मॉडिफिकेशन्स कर सकते हैं और साझेदारी से इसे और बेहतर बना सकते हैं। यह एक प्रभावी, सुरक्षित और स्थिर प्लेटफ़ॉर्म देता है जो विभिन्न Desktop, Servers, और उपकरणों के लिए उपयुक्त है।

Linux के मुख्य विशेषताएं में से एक है कि इसमें source code की पहुंच उपलब्ध होती है, जिससे उपयोगकर्ता या डेवलपर इसे अपनी आवश्यकताओं के अनुसार सुधार सकते हैं। इसके साथ ही, यह बहुत सारे सर्वर और Supercomputer पर चलाया जाता है और कई उपकरणों को चलने के लिए बढ़िया है।

यह एक सबसे अच्छा विकल्प है जो उन लोगों के लिए उपयुक्त है जो स्वतंत्रता, सुरक्षा, और विकास में रुचि रखते हैं।

4. Unix

यूनिक्स (Unix) एक पुराना लेकिन बहुत प्रभावशाली ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे विशेष रूप से सर्वर पर उपयोग किया जाता है। इसे 1960 के दशक में Bell Laboratories द्वारा विकसित किया गया था और यह तकनीकी उपयोगकर्ताओं के बीच पॉपुलर हुआ।

Unix का प्रमुख लक्ष्य एक विशेष रूप से स्थिर, सुरक्षित, और उच्च प्रदर्शन ऑपरेटिंग सिस्टम प्रदान करना है। यह विभिन्न Server Systems, Supercomputer, और व्यावसायिक उपयोगकर्ताओं के लिए उपयुक्त है।

Unix का डिज़ाइन उचित विभिन्नता और हाई लेवल विशेषताओं के लिए जाना जाता है, जैसे कि मल्टीटास्किंग, मल्टीयूज़र सपोर्ट, और नेटवर्क सपोर्ट। Unix के पॉपुलर वेरिएंट्स में से एक हैं Linux, जो open sources पर आधारित है और बहुत लोकप्रिय है तकनीकी समुदाय में।

5. Android

Android एक प्रमुख मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम है जो गूगल द्वारा बनाया गया है। यह लिनक्स कर्नेल पर आधारित है और Smartphones, Tablet, Smart TV और अन्य डिवाइसेज़ के लिए डिज़ाइन किया गया है। एंड्रॉयड एक open source सिस्टम है जिसे डेवलपर्स customized कर सकते हैं और नए Applications बनाना और Applications को सुधार भी सकते हैं।

एंड्रॉयड का मुख्य उद्देश्य उपयोगकर्ताओं को एक एडवांस और सुरक्षित उपयोगरत प्रोग्रामिंग इंफ्रास्ट्रक्चर देता है। यह सिस्टम बहुत सारी विभिन्न versions पर कार्य करता है, जिसमें Kernel, Library, Application फ्रेमवर्क और उपयोगकर्ता इंटरफेस शामिल हैं।

Android के versions बदलते रहते हैं और हर नया version नई विशेषताओं और सुधारों के साथ आता है। यह सिस्टम विभिन्न डिवाइसेज़ पर चलाने के लिए बनाया गया है जैसे स्मार्टफोन, टैबलेट, स्मार्ट टीवी, वियरेबल्स और ऑटोमोबाइल्स।

6. iOS

आईओएस (iOS) एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जो एप्पल के मोबाइल डिवाइसेज़ जैसे कि iPhone, iPad, और iPod Touch के लिए बनाया गया है। यह सिस्टम उपयोगकर्ताओं को एक सुंदर, आसान, और तेज इंटरफ़ेस देता है जिससे उपयोगकर्ता अनुभव सरल और प्रभावी मिलता है। iOS डिवाइसेज़ पर Applications को डाउनलोड करना, इंटरनेट ब्राउज़ करना, ईमेल और संदेश सुनिश्चित करना, मल्टीमीडिया सामग्री का आनंद लेना, और अन्य कई काम करना सरल होता है।

विभिन्न Operating System में अंतर होता है जो उपयोगकर्ताओं को अलग अलग सोर्स और आवश्यकताओं के लिए सलूशन देता हैं। आज के समय में, ये सिस्टम और भी बेहतरीन और सुरक्षित बनाए जा रहे हैं ताकि उपयोगकर्ताओं को एक बेहतर और सुरक्षित मिले। बढ़िया ऑपरेटिंग सिस्टम नई टेक्नोलॉजी और सुरक्षा का पालन करते हैं जो सुरक्षित और प्रदर्शक अनुभव देते हैं।

ऑपरेटिंग सिस्टम का मुख्य काम है कंप्यूटर के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को चला सके । यह कंप्यूटर के सही तरीके से चलाने के लिए सॉफ्टवेयर का एक प्रकार है। इसका उपयोग डेटा को मैनेज करने, उपयोगकर्ता इंटरफेस प्रदान करने और एप्लिकेशन्स को चलाने के लिए किया जाता है। यह सिस्टम हार्डवेयर के सभी भाग को ऑपरेट करता है, जैसे कि प्रोसेसर, मेमोरी, स्टोरेज डिवाइसेस, और इनपुट-आउटपुट डिवाइसेस। इसके अलावा, यह उपयोगकर्ता के साथ इंटरैक्शन करने मै जिम्मेदार होता है, जैसे कि ग्राफिकल यूज़र इंटरफेस (GUI) और कमांड लाइन इंटरफेस (CLI) के माध्यम से। इसके अलावा, यह ऐप्लिकेशन्स को चलाने और प्रोसेस को मैनेज मै मदद करता है ताकि सही ढंग से काम किया जा सके।

Functions of Operating System in Hindi
Functions of Operating System in Hindi

Functions of Operating System in Hindi

1. Resource Management

Resource Management एक Operating System का महत्वपूर्ण कार्य है जो हार्डवेयर रिसोर्सेज को मैनेज करता है। इसमें प्रोसेसर, मेमोरी, स्टोरेज डिवाइसेस, और इनपुट-आउटपुट डिवाइसेस जैसे सभी रिसोर्सेज शामिल होते हैं। ऑपरेटिंग सिस्टम , पूरा यक़ीन करता है कि ये सभी Resources Executive Programs और यूज़र के लिए सही रूप से उपयोग के लिए उपलब्ध हों। इसके माध्यम से सिस्टम अलग अलग प्रकार के कार्यों को सही ढंग से पूरा करने में लायक़ है, जैसे कि प्रोग्राम्स को चलाना, डेटा को इकट्ठा करना, और प्रयोगों को सही ढंग से ऑपरेट करना।

2. User Interface

यूजर इंटरफेस ऑपरेटिंग सिस्टम का वह महत्वपूर्ण हिस्सा है जो यूजर को उनके डिवाइस को ऑपरेट करने के लिए आसान तरीके से इस्तेमाल करसकते है । यहाँ, दो मुख्य प्रकार की इंटरफेस शामिल हैं:

GUI (Graphical User Interface): यह उपयोगकर्ताओं को एक graphical environment में सिस्टम का उपयोग करने की हेल्प करता है। GUI के माध्यम से, उपयोगकर्ता आसानी से माउस या टचस्क्रीन का उपयोग करके फ़ाइलों को खोल सकते हैं, एप्लिकेशन्स को चला सकते हैं, और सिस्टम के अन्य कार्यों को एडिट कर सकते हैं।

CLI (Command Line Interface): यह उपयोगकर्ताओं को टेक्स्ट आधारित कमांड का उपयोग करके सिस्टम को ऑपरेट करने की सुविधा प्रदान करता है। CLI के माध्यम से, उपयोगकर्ता अपनी टाइपिंग के माध्यम से सिस्टम को ऑपरेट कर सकते हैं, जैसे कि फ़ाइलों को कॉपी करना, डायरेक्टरी बदलना, एप्लिकेशन्स को चलाना, और अन्य कार्य पूरा करना।

इन दोनों प्रकार की इंटरफेस उपयोगकर्ताओं को सिस्टम का तारीकों से ऑपरेट करने में मदद करती हैं और उन्हें अपनी अनुसार इंटरफेस चुनने की सुविधा देता हैं।

3. Process Management

प्रोसेस मानगेमेट Operating System का एक महत्वपूर्ण कार्य है जो कंप्यूटर प्रक्रियाओं को चलाने में मदद करता है। जब एक प्रक्रिया शुरू होती है, तो ऑपरेटिंग सिस्टम उसे सपोर्ट करता है ताकि यह सही तरीके से चल सके। यह प्रोसेस के Life span को मैनेज करता है, ख़राब होने का संकेत देता है, और उसके लिए रिसोर्सेज का मैनेज करना है ताकि वह सही ढंग से काम कर सके। ऑपरेटिंग सिस्टम एक operational environment देता है जिससे प्रोसेस एकसाथ काम कर सकें और सिस्टम के साथ मिलकर सही तरीके से कार्य कर सकें।

4. Safety and Security

Operating System सेफ्टी और सुरक्षा के मामले में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह Unauthorized उपयोगकर्ताओं से Suspiciousness को रोकने में मदद करता है और उन्हें प्रवेश से बाहर रखता है। Security Functions ऑपरेटिंग सिस्टम को Permission को मैनेज करने में मदद करता है, जिससे केवल Authorized यूजर को सिस्टम और उसके resources इस्तमाल कर पाए । यह सिस्टम को हानिकारक प्रोग्राम्स और वायरसों से सुरक्षित रखने में भी मदद करता है। सुरक्षा कार्यें जैसे कि एंटीवायरस स्कैनिंग, फ़ायरवॉल प्रबंधन, और उपयोगकर्ता प्रमाणीकरण इसमें शामिल होते हैं। इसके बिना, सिस्टम खुला और असुरक्षित हो सकता है, जिससे नुकसान हो सकता है।

5. File System Management

फाइल सिस्टम मैनेजमेंट जो उपयोगकर्ताओं को उनके डेटा को स्टोर करने और इस्तमाल करने में मदद करता है। यह सिस्टम फाइल्स और फोल्डर्स को स्टोर्ड करता है जिससे उपयोगकर्ता अपने डेटा को सरल रूप से संरक्षित रख सकते हैं।

इसके अलावा, यह सिस्टम उपयोगकर्ताओं को अपने फाइल्स और फोल्डर्स को सही ढंग से एक्सेस करने की इजाज़त देता है। यूज़र्स अपने डेटा को सही ढंग से ऑर्गनाइज़ कर सकते हैं और उन्हें जरूरी फ़ाइल्स तक पहुँचा सकते हैं जब वे इन्हें आवश्यकता हो

एक Operating System एक सॉफ़्टवेयर होता है जो किसी कंप्यूटर या अन्य उपकरण को चलाने के लिए आवश्यक होता है। यहाँ हम कुछ मुख्य ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताओं के बारे में चर्चा करेंगे:

1. User Interface

ऑपरेटिंग सिस्टम का मुख्य उद्देश्य उपयोगकर्ता को एक आसान और सुविधाजनक इंटरेक्शन करना है। यह इंटरेक्शन उपयोगकर्ता को सिस्टम के साथ इंटरैक्ट करने की सुविधा प्रदान करता है, जिससे उपयोगकर्ता अपने कंप्यूटर या अन्य उपकरण पर कार्य संपादित कर सकते हैं। GUI (ग्राफिकल यूज़र इंटरफ़ेस) के माध्यम से, यह संवाद बिना किसी कमांड को याद किए बिना विज्ञापनों की मदद से प्रदान करता है।

2. Organization and Management

Operating system डिवाइस को अपडेटेड रखने के साथ-साथ सुरक्षित रखने में मदद करता है। यह डिवाइस को अवायविक खतरों से बचाता है और आपके पर्सनल चीज़े गुप्त रखता है। ऑपरेटिंग सिस्टम विभिन्न सुरक्षा सिस्टम का उपयोग करके डिवाइस को सुरक्षित रखता है। यह खुद भी नियंत्रण और identification systems का उपयोग करता है ताकि केवल authorized उपयोगकर्ताओं को ही इस्तमाल कर सकते है ।

इसके अलावा, यह data encryption (डेटा को एक ऐसी प्रक्रिया से गुप्त बनाना जिसमें उसे सिर्फ विशेष तरीके से ही खोला जा सकता है) जैसी सुरक्षा के mechanisms का उपयोग करता है। इससे उपयोगकर्ताओं की privacy की सुरक्षा सुनिश्चित होती है और उनके डेटा को अवायविक खतरों से बचाया जाता है।

3. Security

Operating system डिवाइस को अपडेट रखने के साथ-साथ सुरक्षित रखने में मदद करता है। यह डिवाइस को साइबर हमलों और Unauthorized इस्तमाल से बचाता है और आपके पर्सनल चीजों को सुरक्षित करने में मदद करता है। ऑपरेटिंग सिस्टम विभिन्न सुरक्षा सुविधाओं को देता है, जैसे कि फ़ायरवॉल, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर, डिजिटल साइनेचर, और इंटरनेट सुरक्षा सुविधाएँ। इसके अलावा, यह फ्रॉड से बचने के लिए सिस्टम को लॉगिन पासवर्ड, बायोमेट्रिक डेटा, और अन्य सुरक्षा सिस्टम से सुरक्षित बनाता है।

4. Customization

Operating system में customization की सुविधा का मतलब है कि उपयोगकर्ता अपने विकल्पों और आवश्यकताओं के अनुसार सिस्टम को बदल सकते हैं। यह उन्हें सिस्टम की विभिन्न रूप को एडजस्ट करने की स्वतंत्रता देता है, जैसे कि user interface, application settings, fonts,, और themes। यह डिवाइस को अपने हिसाब से बनाने की सुविधा देता है, जिससे उपयोगकर्ता अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए सिस्टम को अपने अनुसार बना सकते हैं।

5. Compatibility

Operating System यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि विभिन्न डिवाइसेज और सिस्टम का एक मुताबिक़ हो। यह एक स्थिर और सहज इंटरफ़ेस प्रदान करता है जो विभिन्न हार्डवेयर के साथ काम कर सकता है। इसका मतलब है कि ऑपरेटिंग सिस्टम विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर हार्डवेयर के साथ मिलना चाहिए, जैसे कि Desktop computer, Laptop, Tablet, और Mobile Phone। इसके साथ ही, यह प्रोग्रामों और application के संगत होने की सुनिश्चिति भी देता है, ताकि उपयोगकर्ता अपने डिवाइस पर विभिन्न सोर्स से सॉफ़्टवेयर को चला सकें।

यहाँ तक कि ऑपरेटिंग सिस्टम की इन विशेषताओं के कारण, यह आपके डिवाइस के लिए एक विश्वसनीय और प्रभावी प्लेटफ़ॉर्म देता है जो उपयोगकर्ता अनुभव को सुधारने में मदद कर सकता है और यकीन कर सकता है कि डिवाइस सुरक्षित रहता है।

आज के डिजिटल दौर में, Operating System बहुत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि ये हमारे कंप्यूटर और मोबाइल डिवाइस को सही तरीके से काम करने में मदद करते हैं और हमें उनसे अच्छे से जुड़े रहने में सहायक होते हैं। ऑपरेटिंग सिस्टम एक बेहतरीन तरीके से हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के  कार्य को संभालता है और इसे उपयोगकर्ता के लिए सरल बनाता है। यह सिस्टम प्रोसेस एक साथ रखता है।

इसके बिना, हमारे कंप्यूटर और डिवाइस नहीं चल सकता है और प्रदर्शन भी प्रभावित हो सकता है। ऑपरेटिंग सिस्टम के विकास ने हमारे तकनीकी जीवन को सरल और सुरक्षित बनाया है। इसलिए, हमें इस महत्वपूर्ण तकनीकी क्षेत्र के बारे में जागरूक और अवगत रहना चाहिए।

1.What is the purpose of an operating system? एक ऑपरेटिंग सिस्टम का मुख्य उद्देश्य है कंप्यूटर हार्डवेयर को ऑपरेट करना और सभी प्रोसेस को एक साथ रखना।

2.How does an OS manage memory? ऑपरेटिंग सिस्टम मेमोरी को अलग-अलग क्षेत्रों में विभाजित करता है ताकि प्रक्रियाएं सही रूप से उसे प्रयोग कर सकें।

3.Which OS is best for gaming? गेमिंग के लिए Windows और MacOS बहुत प्रसिद्ध हैं, लेकिन Linux भी एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

4.Can an operating system be changed? हां, ऑपरेटिंग सिस्टम को अपग्रेड या बदला जा सकता है, लेकिन यह कंप्यूटर की विशेषताओं पर निर्भर करता है।

5.How do mobile OS differ from desktop OS? मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम टचस्क्रीन और मोबाइल डिवाइसों को ध्यान में रखकर डिज़ाइन किए गए होते हैं, जबकि डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम माउस और कीबोर्ड के साथ उपयोग करने के लिए बनाए गए हैं।


नीला आधार कार्ड: भारत में एक महत्वपूर्ण पहचान और उसके ऑनलाइन आवेदन What is Blue Aadhaar Card in Hindi

ओ.टी.पी क्या है और कैसे काम करता है, OTP based eKYC के लाभ – What is OTP in Hindi

Cloud Storage क्या है और कैसे करता है काम, साथ ही Free मै Use कैसे करें – What is cloud storage in Hindi

Graphic Card क्या है: जानिए प्रकार और गेमिंग के लिए कितना उपयोगी है – Best graphic card for pc in Hindi


Share This Article
1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

OnePlus Nord CE 4 5G Vs Vivo V30e की तुलना: कौन करेगा राज? 5G सपोर्ट के साथ Infinix Note 30 5G: दमदार कैमरा और दिमागदार फीचर्स Vivo T3 5G के बेहतरीन फीचर्स शक्तिशाली कैमरा, लंबे समय तक चलने वाली बैटरी भारत में टॉप 10 स्मार्टवॉच ब्रांड: जानिए कौन सा ब्रांड है नंबर 1 Top 10 Best Gaming Processor for Android Mobile सबसे अच्छा मोबाइल प्रोसेसर